Kabir Ke Dohe (कबीर दोहे) – Kabirdas

Kabir ya Kabir Saheb ji 15v sdi ke Bharatiya Rahsyavadi kavi aur sant the. Ve hindi sahity ke bhaktikalin yug me parmeshvar ki bhakti ke lie ek mhan pravartak ke rup me ubhre. Inki rachnao ne Hindi Pradesh ke bhakti aandolan ko gahre star tk prabhavit kiya. Unka lekhan Sikkho ☬ ke aadi granth me bhi dekhne ko milta hai. Ve HindU dharm va Islam ko na Mante hue dharm ek sarvochch ishvar me vishvas rkhte the. Unhone samaj me faili kuritiyo, karmkand, andhavishvas ki ninda ki aur samajik buraiyo ki kdi aalochna bhi. Unke jivankal ke dauran Hindu aur Musalman dono ne unhe bahut pratadit kiya. Kabir panth namak dhaarmik sampraday inki shikshao ke anuyayi hai.

Kabir Saheb Ji ke Prasiddh Dohe

कबीर,हाड़ चाम लहू ना मेरे, जाने कोई सतनाम उपासी।
तारन तरन अभय पद दाता, मैं हूं कबीर अविनाशी।।

भावार्थ: कबीर साहेब जी इस वाणी में कह रहे हैं कि मेरा शरीर हड्डी और मांस का बना नहीं है। जिसको मेरा द्वारा दिया गया सतनाम और सारनाम प्राप्त है, वह मेरे इस भेद को जानता है। मैं ही सबका मोक्षदायक हूँ, तथा मैं ही अविनाशी परमात्मा हूँ।

क्या मांगुँ कुछ थिर ना रहाई, देखत नैन चला जग जाई।
एक लख पूत सवा लख नाती, उस रावण कै दीवा न बाती।|

भावार्थ: यदि एक मनुष्य अपने एक पुत्र से वंश की बेल को सदा बनाए रखना चाहता है तो यह उसकी भूल है। जैसे लंका के राजा रावण के एक लाख पुत्र थे तथा सवा लाख नाती थे। वर्तमान में उसके कुल में कोई घर में दीप जलाने वाला भी नहीं है। सब नष्ट हो गए। इसलिए हे मानव! परमात्मा से तू यह क्या माँगता है जो स्थाई ही नहीं है।

Is pustak ka kul size 280 KB hai aur kul pristho ki sankhya 36 hai. Niche diye hue link se is pustak ko aasani se download kr skte hai aur muft me pdh skte hai. Agr aap is pustak ki hard copy lena chahte hai to niche hm Amazon ka link bhi provide kr rhe hai aap vha se esaily is pustak ko khrid skte hai. Pustke hmari sachchi mitr hoti hai aur Freehindibook.com pr aapko hjaro pustke muft me pdhne ko mil jayengi.

Book Writer Kabirdas
Book LanguageHindi
Book Size280 KB
Total Pages36
CategoryEducation

Download Free E-Book 
Donate us for maintenance
Buy this book from Amazon 
Listen this book on Audible 

Leave a Comment